UPPCS "भूगोल" वैकल्पिक विषय पाठ्यक्रम

  प्रश्नपत्र - I

भौतिक भूगोल

भू- आकरिकी: 

  • पृथ्वी की उत्पत्ति एवं संरचना
  • भूसंचलन
  • प्लेट विवर्तन तथा पर्वत निर्माण
  • भूसंतुलन
  • ज्वालामुखी क्रिया
  • अपक्षय एवं अपरदन
  • अपरदन चक्र
  • स्थलाकृतियों का क्रम- विकास-नदीय, हिमानी, पवन, सागरी तथा कास्र्ट,
  • पुनरूत्थान एवं बहुचक्रीय भू- आकृतियाँ


जलवायु विज्ञान: 

  • वायुमण्डल का संघटन एवं सरंचना, 
  • सूर्याभिताप एवं उष्मा बजट, 
  • वायुमण्डलीय दाब एवं पवन, 
  • आर्द्रता एवं वृष्टि,
  • वायु राशियाॅ एवं वाताग्र, 
  • चक्रवात- उत्पत्ति, परिसंचरण एवं सम्बन्धित मौसम,
  • विश्व जलवायु का वर्गीकरण- कोपेन तथा थान्र्थवेट।


समुद्र विज्ञान: 

  • समुद्रतल का उच्चावच स्वरूप,
  • लवणता
  • समुद्री धाराएं एवं ज्वार-भाटा
  • समुद्री निक्षेप एवं प्रवाल भित्तयाँ।


 मिट्टी एवं वनस्पति :

  • उत्पत्ति 
  • वर्गीकरण एवं विश्व- वितरण
  • मिट्टी एवं वनस्पति की सह-जीविता
  • जैव समुदाय एवं अनुक्रम।

पारिस्थितिकी तन्त्र: 

  • पारिस्थितिकी की संकल्पना
  • पारिस्थितिकी तन्त्र की संरचना एवं कार्यप्रणाली
  • पारिस्थितिकी तन्त्र के प्रकार
  • प्रमुख जीवोम
  • पारिस्थितिक तन्त्रों पर मानव का प्रभाव तथा वैश्विक पारिस्थितिकीय मुद्दे।


मानव भूगोल

भौगोलिक चिन्तन का क्रम- विकास: 

  • भारतीय, जर्मन, फ्रांसीसी, ब्रिटिश तथा रूसी भूगोल वेत्ताओं के योगदान,
  • मानव- भूगोल के परंपरागत चिंतन फलक- निश्चयवाद, सम्भववाद, प्रदेशवाद; 
  • सम- सामायिक चिंतन फलकः प्रत्यक्षवाद, सांख्यिकीय क्रान्ति; भूगोल में मॉडल एवं तंत्र;
  • भौगोलिक चिन्तन में अभिनव प्रवृत्तियां (आचारपरक, क्रान्तिकारी, मानवतावाद, उत्तरआधुनिकवाद एवं पारिस्थितिकी चिन्तन फलक के विशेष सन्दर्भ में)।


मानव भूगोलः 

  • प्रमुख प्राकृतिक प्रदेशों में मानव निवास्य,
  • मानव का अभ्युदय एवं मानव प्रजातियां
  • सांस्कृतिक विकास एवं अवस्थाएं प्रमुख सांस्कृतिक परिमण्डल
  • जनसंख्या की वृद्धि एवं वितरण
  • अन्तराष्ट्रीय प्रवजन
  • जनांकिकीय संक्रमण तथा सम- सामयिक जनसंख्या समस्यायें।


अधिवास भूगोल: 

  • अधिवास भूगोल की संकल्पना
  • ग्रामीण अधिवास-प्रकृति, उत्पत्ति, प्रकार एवं प्रतिरूप
  • नगरीय अधिवास; उत्पत्ति, प्रतिरूप, प्रक्रियायें एवं परिणाम
  • केन्द्र स्थल सिद्धान्त
  • नगरों का वर्गीकरण
  • नगरों का पदानुक्रम
  • नगरों की आकारिकी 
  • ग्राम-नगर सम्बन्ध- नगरीय प्रभाव क्षेत्र एवं नगर उपान्त
  • भावी प्रवृत्तियाँ।


आर्थिक भूगोल: 

  • आधारभूत संकल्पनायें: संसाधन की संकल्पना, वर्गीकरण, संरक्षण एवं प्रबन्धन
  • कृषि की प्रकृति एवं प्रकार,
  • कृषि भूमि- उपयोग के अवस्थितिपरक सिद्धान्त
  • विश्व के कृषि प्रदेश
  • प्रमुख फसलें
  • खनिज एवं ऊर्जा संसाधन- स्थानिक उपलब्धता, भण्डार तथा उपयोग एवं उत्पादन प्रतिरूप
  • विश्व ऊर्जा संकट एवं विकल्प की खोज
  • उद्योग: औद्योगिक अवस्थिति के सिद्धान्त, प्रमुख औद्योगिक प्रदेश
  • प्रमुख उद्योग-लोहा तथा इस्पात, कागज, वस्त्र, पेट्रो-रसायन, स्वचालित वाहन तथा पोत निर्माण- उनके अवस्थितिक प्रतिरूप
  • अंतरराष्ट्रीय व्यापार
  • व्यापारिक प्रखण्ड
  • व्यापारिक मार्ग, पत्तन एवं भूमण्डलीय व्यापारिक केन्द्र
  •  वैश्वीकरण एवं विश्व में आर्थिक विकास के सिद्धान्त एवं प्रतिरूप
  • संवहिनीय विकास की संकल्पना एवं उपागम।


राजनीतिक भूगोल: 

  • राष्ट्र एवं राज्य की संकल्पना
  • सीमान्त, सीमायें एवं बफर क्षेत्र, 
  • हृदयस्थल एवं रिमलैण्ड सिद्धान्त
  • संघवाद
  • विश्व के सम- सामयिक भू-राजनीतिक मुद्दे।



प्रश्न पत्र - II 

भारत का भूगोल

भौतिक एवं मानव भूगोल 


प्राकृतिक स्वरूप: 

  • भौमिकीय क्रम एवं संरचना 
  • उच्चावच एवं अपवाह
  •  मिट्टी एवं प्राकृतिक वनस्पति
  • मिट्टी अवक्रमण तथा निर्वनीकरण
  • भारतीय मानसून की उत्पत्ति एवं प्रक्रिया
  • जलवायु प्रदेश
  • भौगोलिक प्रदेश।


जैविक संसाधन:

  • वन्य जीव
  • राष्ट्रीय उद्यान
  • अभयारण्य
  • जैव मंडल आरक्षित क्षेत्र
  • जैव विविधता हाट-स्पाट।


Section 2:

  • आर्द्रभूमि
  • पर्यटन- संसाधन एवं आर्थिकी
  • प्राकृतिक संकट एवं आपदा तथा प्रबन्धन
  • पर्यावरणीय मुद्दे।


जनसंख्या एवं अधिवास

  • वितरण एवं वृद्धि
  • जनसंख्या की संरचानात्मक विशेषतायें
  • ग्रामीण अधिवास- प्रकार, प्रतिरूप तथा आकारिकी
  • नगरीय अधिवास- नगरों की पहचान एवं वर्गीकरण
  • पदानुक्रम एवं प्रभाव क्षेत्र


राजनीतिक व्यवस्था:

  • ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य में एकता एवं विविधता
  • राज्य पुनर्गठन
  • प्रादेशिक चेतना एवं राष्ट्रीय समन्वयन
  • केन्द्र राज्य सम्बन्ध के भौगोलिक आधार
  • भारत की अन्तर्राष्ट्रीय सीमाएं तथा भू-राजनीतिक समस्यायें
  • भारत एवं हिन्द महासागर की भू-राजनीति
  • भारत एवं दक्षेस।


खण्ड- ब 

आर्थिक एवं प्रादेशिक भूगोल 

कृषि

  • भारतीय कृषि की विशेषताएं
  • बंजर भूमि की समस्यायें एवं सुधार
  • फसल प्रतिरूप एवं गहनता
  • कृषिगत दक्षता एवं उत्पादकता
  • हरित क्रान्ति के प्रभाव
  • कृषि प्रदेश
  • कृषि- परिस्थितिकी प्रदेश
  • जोत- आकार प्रतिरूप,
  • भूमि सुधार, 
  • सस्य संयोजन प्रदेश
  • कृषि का आधुनिकीकरण एवं कृषि नियोजन।


संसाधन- 

  • वितरण प्रतिरूप
  • संचित भण्डार एवं उत्पादन
  • खनिजों की परिपूरकता
  • ऊर्जा संसाधन -कोयला, पेट्रोलियम, जल विद्युत, 
  • बहुदेशीय नदी घाटी परियोजनायें
  • ऊर्जा संकट तथा विकल्प की खोज
  • समुद्री संसाधन
  • जैविक संसाधन।


उद्योग

  • औद्योगिक विकास
  • प्रमुख उद्योग- लोहा एवं इस्पात, वस्त्र, कागज, सीमेन्ट, उर्वरक, चीनी तथा पेट्रो- रसायन, 
  • औद्योगिक संश्लिष्ट एवं प्रदेश
  • औद्योगिक नीति।



परिवहन एवं व्यापार 

  • रेलमार्ग एवं सड़क तंत्र
  • नागरिक उड्डयन एवं जल परिवहन की समस्यायें एवं सम्भवानाएं
  • अन्तरप्रादेशिक व्यापार
  • अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार
  • प्रमुख बन्दरगाह एवं व्यापार केन्द्र
  • उदारीकरण।


प्रादेशिक विकास एवं नियोजन 

  •  प्रादेशिक विकास की समस्यायें एवं क्षेत्रीय विकास रणनीति
  • बहुस्तरीय नियोजन
  • नियोजन प्रदेश
  • महानगरीय
  • जनजातीय
  • पर्वतीय
  • सूखा पीड़ित प्रदेशों हेतु नियोजन तथा जलागम क्षेत्र प्रबन्धन
  • प्रादेशिक विकास में विषमतायें
  • पंचवर्षीय योजनाएं तथा संबहनीय विकास हेतु नियोजन।
Previous
Next Post »