भारत में विकास के लिए भू क्षरण एवं वनों का ह्रास दोनों ही चुनौतियां एवं मुद्दे हैं -उदाहरण सहित व्याख्या कीजिये।

 प्रश्न। 

भारत में विकास के लिए भू क्षरण एवं वनों का ह्रास दोनों ही चुनौतियां एवं मुद्दे हैं -उदाहरण  सहित व्याख्या कीजिये।  ( UPPSC, 2020, 10 Marks)

उत्तर।

मृदा के ऊपरी भाग के नष्ट होने को भू क्षरण कहते हैं। भू क्षरण से मिट्टी में कार्बनिक पदार्थों की हानि होती है और इसके परिणामस्वरूप मिट्टी की उर्वरता में कमी हो जाती है। वनों की कटाई मिट्टी के कटाव का एक प्रमुख कारण है क्योंकि पौधे मिट्टी को जड़ों से बांधे रखते हैं जो कटाव को रोकते हैं। पहाड़ी क्षेत्रों में मिट्टी का कटाव अधिक होता है क्योंकि पहाड़ी क्षेत्रों में वनों की कटाई अधिक होती है।

मृदा अपरदन और वनोन्मूलन दोनों ही भारत में विकास के लिए निम्न प्रकार से चुनौतियाँ और मुद्दे हैं:

  • मृदा अपरदन मृदा निम्नीकरण और कृषि उत्पादकता में कमी का गंभीर कारण है।
  • वनों की कटाई से मिट्टी का ढीलापन और मिट्टी का क्षरण होता है, कटी हुए मिट्टी नदी में बाह जाती है जिससे नदी की पानी ले जाने की क्षमता कम हो जाती है, जिसके परिणामस्वरूप बार-बार बाढ़ आती है और देश के विकास में बाधा का कारण बनते है।
  • नेशनल सेंटर फॉर कोस्टल रिसर्च की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 26 वर्षों में तीव्र मिट्टी के कटाव के कारण भारतीय समुद्र तट का एक तिहाई हिस्सा नष्ट हो गया है।
  • सबसे ज्यादा समुद्र तट की रिपोर्ट पश्चिम बंगाल में दर्ज की गई है
  • भारत की 30% भूमि खराब हो चुकी है और ज्यादातर यह मिट्टी के कटाव और वनों की कटाई के कारण होती है।
  • भारत में 2019 और 2020 के बीच लगभग 38 हजार हेक्टेयर उष्णकटिबंधीय वर्षावन खो दिया है।
  • हाल के वर्षों में, पश्चिमी घाट में कटाव और वनों की कटाई के कारण आई बाढ़ के कारण केरल को भारी नुकसान हुआ है।
  • राष्ट्रीय स्तर पर मिट्टी के कटाव के को जानने और रोकने के लिए कोई उचित सर्वेक्षण नहीं की गयी  है।


मृदा अपरदन और वनों की कटाई से निपटने का तरीका:

  • राष्ट्रीय मृदा संरक्षण नीति की आवश्यकता
  • वनों की कटाई को सीमित करें
  • 15 से 25 ढलान वाली भूमि को खेती के लिए उपयोग नहीं करना चाहिए।
  • पहाड़ी क्षेत्रों में सीढ़ीदार खेती करनी चाहिए।
  • अत्यधिक चराई और स्थानांतरित खेती के नकारात्मक परिणामों के बारे में गांव को शिक्षित करना।
  • मिट्टी के कटाव को मापने के लिए कंटूर बाइंडिंग और रिले क्रॉपिंग को अपनाया जाना चाहिए।
You may like also:

Previous
Next Post »