मैंटल में संवहन धाराओं के आरंभ होने और बने रहने का क्या कारण है |

 सवाल  

मैंटल में संवहन धाराओं के आरंभ होने और बने रहने का क्या कारण है | 

उत्तर 

1930 के दशक  में आर्थर होम्स ने  "संवहन धारा सिद्धांत" दिया  था और उन्होंने पृथ्वी के मैंटल भाग में संवहन धारा के संचालन की संभावना व्यक्त की थी | 

संवहन धाराएँ उत्पन्न होने का मुख्य कारण मैंटल भाग में रेडियोधर्मी तत्वों की उपस्थिति है |  मैंटल भाग में रेडियोधर्मी तत्वों कके असमान वितरण के कारण तापीय अंतर उत्पन्न हो जाता है | संवहन धाराएँ चक्रीय गति से चलते है और महाद्वीपीय के विस्थापन का कारण बनते है | 

convectional cell
convectional cell


चक्रीय गति  में भी दो प्रकार की गति होती है 

  • क्षैतिज संवहन धाराओं का संचलन रेडियोधर्मी तत्वों के असमान वितरण से उत्पन्न  ऊष्मीय अंतर के कारण होता है।
  • ऊर्ध्वाधर संवहन धाराओं की  गति गहराई के कारण ऊष्मीय में अंतर के कारण होती है। अधिक गहराई पर उपस्थित मैग्मा में उथले वाले मैग्मा की तुलना में अधिक गर्म  होता है जिसके कारण नीचे की मैग्मा ऊपर आती है और ऊपर की मैग्मा नीचे जाती है ।


इस तरह मैंटल  में संवहन धाराओं की आरंभ और  वहा बना रहता है | 


You may like also:
Previous
Next Post »