महाद्वीपों के प्रवाह के लिए वेगनर ने किन बलों का उल्लेख किया

  सवाल  

महाद्वीपों के प्रवाह के लिए वेगनर ने किन बलों का उल्लेख किया 

उत्तर 

जर्मन मौसमविद , अल्फ्रेड वेगेनर ने 1912 में "महाद्वीपीय विस्थापन  सिद्धांत" दिया। यह  सिद्धांत महाद्वीपों और महासागरों के वितरण तथा वर्तमान स्थिति  की व्याख्या करता है।

वेगनर के अनुसार, दो बल थे जो महाद्वीपीय विस्थापन  का कारण बना 

  • पोलर या ध्रुवीय फ्लयिंग बल 
  • ज्वारीय बल


पोलर या ध्रुवीय फ्लयिंग बल 

  • पृथ्वी के घूर्णन के कारण पृथ्वी भूमध्य रेखा पर उभरा हुआ है |   इस उभार के कारण ध्रुवों की ओर  एक बल उत्पन्न होता है और महाद्वीपों को ध्रुवो की ओर खींचने का काम किया | 


ज्वारीय बल:

  • ज्वारीय बल चंद्रमा और सूर्य के आकर्षण के कारण होता है और यह समुद्र के पानी पर विकसित होता है। वेगेनर का मानना ​​था कि लाखों वर्षों में लागू होने पर ज्वारीय बल प्रभावी रहा होगा जो महाद्वीपीय का विस्थापन  का कारण बना ।
You may like also:
Previous
Next Post »