मूल्य सृजन में परिवार, समाज , और शिक्षण संस्थाओ की भूमिका की विवेचना कीजिये

प्रश्न। 

मूल्य सृजन में परिवार, समाज , और शिक्षण संस्थाओ की भूमिका की विवेचना कीजिये। (UPPSC, 2020)

उत्तर 

मूल्य वे विश्वास हैं जो व्यक्ति के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं और अपने मूल्यों से  समझौता नहीं करना चाहता है, और मूल्यों के आधार पर हम दैनिक जीवन के निर्णय लेते हैं।

उदाहरण के लिए, निष्पक्षता, ईमानदारी, सत्यनिष्ठा आदि मेरे मूल्य हैं। हम अपने निर्णयों में इसका उपयोग करते है। 

मूल्य वे नहीं हैं जो हमें जन्म से विरासत में मिलते हैं, ये हम  बाहरी वातावरण जैसे परिवार, समाज और शैक्षणिक संस्थानों द्वारा प्राप्त करते हैं।

मूल्यों को विकसित करने में परिवार की भूमिका:

  • माता, पिता, दादी और दादा परिवार के चार मुख्य सदस्य होते है और बच्चे इन्ही चारो से बचपन में ज्यादातर मूल्य अर्जित करते हैं। निम्नलिखित कुछ मूल्य हैं जो हम परिवार से पैदा करते हैं।
  • लिंग संवेदनशीलता: पिताजी माताजी से जैसा व्यवहार करते है वैसे ही बच्चा भी महिलाओ से व्यवहार करता है। यदि परिवार में लड़का लड़की में भेद करता है तो उसमे रहने वाले बच्चे में भी वही मूल्य आ जाता है।  
  • बड़ों का सम्मान: यदि परिवार में बड़ो का सम्मान होता है तो बच्चे भी बड़ो को सम्मान देने वाला बनता है। 
  • लोकतांत्रिक मूल्य या सत्तावादी मूल्य: परिवार के सदस्य दैनिक जीवन के निर्णय में यदि लोकतांत्रिक मूल्य का सहारा लेता है तो बच्चे भी लोकतांत्रिक मूल्य वाले होते है।  

इसी  प्रकार हमें परिवार अन्य निम्नलिखित मूल्य को सृजन करता है :

  • गैर-भेदभावपूर्ण 
  • करुणा की भावना 
  • अंधविश्वास या वैज्ञानिक मूल्य:
  • रूढ़िवादी सोच या अभिनव सोच


निम्नलिखित मूल्य हैं जो हम समाज से विकसित करते हैं:

हमारे विश्वास और मूल्य हमारी संस्कृति के आधार पर विकसित होते हैं और हमारी संस्कृति समाज से उभर के आती  है। उदाहरण के लिए,

  • एक व्यावसायिक समुदाय का व्यक्ति धन प्रबंधन को अधिक महत्व देता है और उसके पास अन्य लोगों की तुलना में धन का अधिक प्रभावी ढंग से प्रबंधन करने का मूल्य होता है।
  • एक गरीब व्यक्ति  भोजन बर्बाद नहीं करता है क्योंकि वह भोजन के मूल्य को जानता है।

निम्नलिखित अन्य मूल्य हैं जो हम समाज से विकसित करते हैं:

  • भाईचारा,
  • न्याय या निष्पक्षता
  • कोई भेदभाव नहीं
  • स्वीकार
  • मान्यता
  • देखभाल करने वाला

मूल्यों को विकसित करने में शैक्षणिक संस्थानों की भूमिका:

शिक्षा हमें एक ऐसा मंच प्रदान करती है जहां हम दार्शनिकों को सीखकर अपने सीखे हुए मूल्यों की वैश्विक मूल्यों से तुलना कर सकते हैं और तार्किक तर्क से अपने सृजित मूल्यों में भी बदलाव करते है तथा नए मूल्यों को भी सृजित करते है 

उदाहरण के लिए,

  • समाज हमें जातिगत भेदभाव मूल्य प्रदान करता है, लेकिन जब हम शिक्षा प्राप्त करते हैं, तो तार्किक कारण विकसित होता है और हम पाते हैं कि जाति भेदभाव एक मूल्य नहीं है और  हमें मनुष्यों के साथ समान व्यवहार करना चाहिए।
  • राष्ट्र निर्माण के लिए व्यक्ति और समाज के भीतर सामाजिक समरसता और शांति होनी चाहिए।
  • टीम वर्क मूल्य हम शिक्षा से प्राप्त करते हैं।

You may like:

Previous
Next Post »