भारत में हॉट -स्पॉट्स का विस्तृत विवरण दीजिए।

 प्रश्न। 

भारत में हॉट -स्पॉट्स का विस्तृत विवरण दीजिए।  ( UPPSC, 2020, 15 Marks)

उत्तर।

कन्वेंशनल इंटरनेशनल के अनुसार, एक क्षेत्र के लिए जैव-विविधता हॉट स्पॉट बनने के लिए दो मानदंड हैं; य़े हैं:

  • स्थानिक पौधों की 1500 प्रजातियां या कुल पौधों की प्रजातियों का 0.5% से अधिक क्षेत्र में होना चाहिए।
  • क्षेत्र के कुल मूल क्षेत्रफल का कम से कम 70% वनष्पतियाँ नष्ट हो गए हो ।

वर्तमान में, दुनिया में 36 जैव विविधता हॉट स्पॉट हैं, और 36 में से 4 आंशिक रूप से भारत में स्थित हैं।

भारत के 4 जैव विविधता हॉटस्पॉट निम्नलिखित हैं:

  • हिमालय
  • इंडो बर्मा क्षेत्र
  • पश्चिमी घाट
  • सुंडा लैंड

इन 4 के अलावा, दो और हैं जो भारत में हॉट स्पॉट में शामिल होने के मानदंड को पूरा करते है, और ये हैं:

  • तराई-द्वार सवाना [इंडो-ब्रह्मपुत्र मैदान]
  • सुंदरबन [गंगा-ब्रह्मपुत्र डेल्टा]

Biodiversity hot spots of India
Biodiversity hot spots of India

हिमालय:

क्षेत्र:

  • पाकिस्तान, भारत, तिब्बत, नेपाल, भूटान और म्यांमार के हिमालयी क्षेत्र

विशेषताएं:

  • कई बड़े पक्षियों जैसे गिद्ध का स्तनपायी , बाघ, गैंडे घर


इंडो बर्मा क्षेत्र

क्षेत्रों

  • असम को छोड़कर उत्तर पूर्व भारत,
  • अंडमान द्वीप समूह
  • म्यांमार
  • थाईलैंड,
  • लाओस,
  • वियतनाम,
  • कंबोडिया

विशेषताएं:

  • मीठे पानी का कछुआ


पश्चिमी घाट :

क्षेत्र:

  • गुजरात से तमिलनाडु तक संपूर्ण पश्चिमी घाट
  • श्री लंका।

विशेषताएं:

  • यह क्षेत्र बड़ी संख्या में पौधों की किस्मों का घर है
  • शेर की पूंछ वाले मकाक का घर
  • एशियाई हाथी


सुंडा लैंड

क्षेत्र:

  • द्वीपों के निकोबार समूह
  • इंडोनेशिया
  • मलेशिया
  • ब्रुनेई
  • फिलीपींस

 विशेषताएं:

  • दुनिया का सबसे बड़ा फूल, रैफलेसिया सुंडा लैंड में पाया जाता है। 
  •  ताड़ के तेल जैसे वृक्षारोपण की खेती के कारण क्षेत्रफल में भारी कमी ।


You may like also:

Previous
Next Post »