चेम्बरलेन और मोल्टन की ग्रहाणु परिकल्पना |पृथ्वी की उत्पत्ति एवं संरचना

 चेम्बरलेन और मोल्टन की ग्रहाणु परिकल्पना:  

  • चेम्बरलेन और मौलटन ने नेबुलर परिकल्पना को खारिज कर दिया और वर्ष  1900 अपना सिद्धांत दिया जो द्वैतवादी संकल्पना पर आधारित है और बाद में द्वैतारा  सिद्धांत का आधार बना |
  • चेम्बरलेन और मौलटन के अनुसार, आदिम सूर्य के पास एक भटकता हुआ तारा आया । भटकता हुआ तारा के आकर्षण के कारण आदिम सूर्य से असंख्य मात्रा में छोटे छोटे पदार्थ बाहर आ गए जिसे उन्होंने ग्रहाणु बोला | जब भटका हुआ तारा दूर चला जाता है, तो आदिम सूर्य से अलग हुआ  पदार्थ सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाता रहता है। अलग हुआ पदार्थ ( ग्रहाणु ) धीरे-धीरे आपस में चिपकने से गृह तथा उपग्रह बनने लगे और पृथ्वी और अन्य ग्रहों की उत्पत्ति हुई।

चेम्बरलेन और मोल्टन की ग्रहाणु परिकल्पना


चेम्बरलेन और मोल्टन की ग्रहाणु परिकल्पना की आलोचना :

  • हमारे सौर मंडल में आठ ही गृह क्यों बने और कुछ ग्रहो के उपग्रह क्यों नहीं है , इन सब का जबाब यह सिद्धांत नहीं दे पता | 
  • हमारे सौर मण्डल के सारे गृह एक की दिशा में सूर्य के परिक्रमा क्यों करते है, इसका यह सिद्धांत जबाब नहीं देता | 
  • यह परिकल्पना यह भी नहीं बता पाता की कुछ गृह जैसे पृथ्वी , बुध, शुक्र ठोस अवस्था में है और कुछ गृह जैसे शनि गैस अवस्था में क्यों है | 
  • ब्रह्मांड में तारे इतने दूर हैं, सितारों के घुसपैठ की बहुत कम संभावनाएं हैं।
You may like also:
Previous
Next Post »