कान्ट व लाप्लेस के तर्कों में मूलभूत अंतर

  सवाल:

पृथ्वी की उत्पत्ति से संबंधित तर्कों में  कान्ट व लाप्लेस के तर्कों में मूलभूत अंतर बताएं ।

उत्तर:


कान्ट और लाप्लेस  दोनों ने नेबुलर(Nebular) परिकल्पना को आकार देने में योगदान दिया । नेबुलर परिकल्पना  सबसे पुरानी परिकल्पना है जिसने ग्रह की उत्पत्ति और हमारे सौर मंडल की  की उत्पत्ति व्याख्या की  है।

इमैनुएल  कान्ट  (जर्मन दार्शनिक) के तर्क :

सूर्य एक सौर निहारिका( Nebula) से घिरा हुआ था जिसमें धूल के साथ ज्यादातर हाइड्रोजन और हीलियम के कण शामिल थे । कणों के बीच गुरुत्वाकर्षण खिंचाव के कारण, कण आपस में टकराने और चिपकने लगे और कुछ कणों के बड़े होने के परिणामस्वरूप बाद में  तारे, ग्रह आदि का निर्माण हुआ ।

 कान्ट  की निहारिका परिकल्पना की कमी :

  • यह बताने में सक्षम नहीं है कि हमारे सौर प्रणाली  के  ग्रह एक ही दिशा में क्यों घूम रहा है ।
  • उपग्रह निर्माण कैसे हुआ इसकी व्याख्या नहीं कर पाता ।


लाप्लेस  की निहारिका परिकल्पना:

1796 में लाप्लेस  (फ्रांसीसी गणितज्ञ) ने  कान्ट  की निहारिका परिकल्पना  को संशोधित किया,

लाप्लेस  के अनुसार:

  • सूर्य पहले से ही बना हुआ है, सूर्य की युवा अवस्था को आदिम( primitive) सूर्य कहा ।
  • निहारिका बहुत बड़ी दूरी पर आदिम सूर्य के चारों ओर घूमने वाली बड़ी गैसें थीं।
  • समय के साथ सूर्य ठंडा और सिकुड़ने लगता है।
  • सूर्य के आकार में कमी से सूर्य के घूर्णन वेग में वृद्धि होती है।
  • कुछ वलय सामग्री ( ring materials) वायुमंडल के चारों ओर छूट जाती है और संकेंद्रित वलय( concentric ring) बनने लगता है । 
  • हमारे सौर प्रणाली में आठ संकेन्द्रित वलय बने।
  • प्रत्येक संकेंद्रित वलय से  ग्रह का निर्माण हुआ था।
  • इसी तरह आदिम ग्रह के चारों ओर संकेंद्रित वलय थे, और संकेंद्रित वलय से उपग्रहों का निर्माण हुआ था।

You may like also:
Previous
Next Post »