पार्थिव ग्रह चट्टानी क्यों है?

  जैसा कि हम जानते हैं कि हमारा सौरमंडल आठ ग्रहों से मिलकर बना है। ग्रह की संरचना या मूल निर्माण सामग्री के आधार पर, इन आठ ग्रहों को दो भागों में वर्गीकृत किया गया है:

  • पार्थिव ग्रह
  • जोवियन या गैस विशालकाय ग्रह

पार्थिव ग्रह:

  • पार्थिव का अर्थ है पृथ्वी जैसे ग्रह और वे चट्टानों और धातुओं से बने हैं और इनका घनत्व अपेक्षाकृत अधिक है। स्थलीय ग्रह बुध, शुक्र, पृथ्वी और मंगल हैं।

जोवियन या गैस विशालकाय ग्रह:

  • जोवियन का अर्थ है बृहस्पति जैसे ग्रह और वे स्थलीय ग्रह की तुलना में बहुत हल्के पदार्थों से बने होते हैं और इनमें घना वातावरण होता है जो ज्यादातर हाइड्रोजन और हीलियम से बना होता है। जोवियन ग्रह बृहस्पति, शनि, यूरेनस और नेपच्यून हैं।


पार्थिव ग्रह चट्टानी होने के निम्नलिखित कारण हैं:

  • पार्थिव ग्रह सूर्य के करीब बने थे जहां बहुत गर्मी था जिसके कारण गैस के कण ठोस कण में परिवर्तित नहीं हो सके और केवल जो पहले से ठोस कण थे वही चट्टान के रूप में संगठित हो गए ।
  • सूर्य के पास, सौर हवा सबसे तीव्र थी, इसके कारण सौर हवा स्थलीय ग्रहों से हल्के कण सामग्री को उड़ा दिया।
  • पार्थिव ग्रह छोटे होते हैं और उनमें गुरुत्वाकर्षण कम होता है, इसलिए वे गैस या धूल जैसी हल्की सामग्री को अपने पास नहीं रोक सके ।


इसलिए पार्थिव ग्रह चट्टानी है ।


You may like also:

Previous
Next Post »

1 comments:

Click here for comments
Unknown
admin
17 September 2022 at 05:47 ×

Omprakash

Congrats bro Unknown you got PERTAMAX...! hehehehe...
Reply
avatar