कायांतरित शैल क्या है ? इसके प्रकार एवं निर्माण की पद्धति का वर्णन करें |

 प्रश्न

कायांतरित शैल क्या है ? इसके प्रकार एवं निर्माण की पद्धति का वर्णन करें |    ( NCERT, Class 11, Fundamentals of Physical geography)

उत्तर 

कायांतरित का अर्थ है "स्वरूप में परिवर्तन | आग्नेय व अवसादी शैलो में दाब , ताप, और आयतन में परिवर्तन होने से  पुनः क्रिस्टिलीकरण होता है तथा वास्तविक शैलो में पदार्थ के फिर से संगठित होते है और नए शैल बनते है उसे कायांतरित शैल कहते है | 

कायांतरित शैल के निर्माण के मुख्यतः दो पद्धति  होते है 

  • गतिशील कायांतरण
  • उष्मीय कायांतरण 


गतिशील कायांतरण:

टूटने या पीसने के कारण वास्तविक शैल के संरचना  में बव्धान होता है और पदार्थ के कण पुनः संगठित होते है, इस क्रिया से बनने वाले शैल को गतिशील कायांतरित शैल बोलते है | 

उष्मीय कायांतरण :

जब वास्तविक शैल पर अत्यधिक दबाव पड़ता है या वास्तविक शैल गर्म मैग्मा के संपर्क में आता है तो वास्तविक शैल के पदार्थ पुनः कृस्टलीकरण हो जाते है, इस प्रकिया से बने शैलो को उष्मीय कायांतरित शैल बोलते है | इस प्रकिया में शैलो के कुछ कण या खनिज सतहों या रेखाओ के रूप में व्यस्थित हो जाते है, कण के इस व्यवस्था को पत्रण (फोलिएशन) या रेखांकन कहते है |

You may like also:

Previous
Next Post »