भारत के किसी एक राज्य के लिए आपदा प्रबंधन की कार्य योजना तैयार कीजिए।

 प्रश्न। 

भारत के किसी एक राज्य के लिए आपदा प्रबंधन की कार्य योजना तैयार कीजिए।  ( UPPSC, 2020, 15 Marks)

उत्तर।

आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के अनुसार,  किसी भी क्षेत्र में आपदा एक गंभीर घटना है जिसके परिणामस्वरूप मानव जीवन की पर्याप्त हानि होती है और संपत्ति और पर्यावरण का भी काफी विनाश होता है जो प्राकृतिक या मानव निर्मित हो सकता है , और आपदा प्रभावित क्षेत्रों के समुदाय की मुकाबला करने की  क्षमता से परे होता है।

उत्तर प्रदेश के लिए आपदा प्रबंधन के लिए कार्य योजनाएँ निम्नलिखित हैं:

हम जानते है कि , आपदा प्रबंधन के लिए एक सार्वभौमिक रूप से स्वीकृत योजना है जिसके चार चरण निम्नलिखित  हैं:

  • शमन [रोकथाम और जोखिम में कमी]
  • तैयारी
  • अनुक्रिया
  • रिकवरी 

उपरोक्त चार चरणों में गैर-अस्पष्ट जिम्मेदारी तय की जानी चाहिए।

मुख्य ध्यान शमन [रोकथाम और जोखिम में कमी] में देना चाहिए , और निम्नलिखित तरीके से आपदा से बचने पर होना चाहिए:

  • विभिन्न आपदा जो पहले से घटित है उनका कारण, तैयारी, कार्रवाई की विश्लेषण करनी चाहिए ।
  • उदाहरण के लिए उत्तर प्रदेश में निम्नलिखित आपदाये हुए है ,
    • 1888: मुरादाबाद ओलावृष्टि
    • 1954, 2013: प्रयाग राज कुंभ मेला भगदड़
    • 2012, 2013: उत्तरी भारत में बाढ़
    • कोविड -19 महामारी
  • उत्तर प्रदेश में भविष्य की आपदा का मानचित्रण करना 
  • आपदा प्रतिरोध और न्यूनीकरण प्रौद्योगिकी का उपयोग करना और उन्हें लघु, मध्यम और लंबी अवधि के समय सीमा के भीतर लागू करना ।
  • आउटगोइंग और भविष्य की विकास परियोजनाओं में जोखिम में कमी करने वाले योजना को शामिल करना
  • मौजूदा बुनियादी ढांचे में आपदा जोखिम को कम करना
  • स्थानीय आबादी को वहां  हो सकने वाले आपदा के खिलाफ सशक्त बनाना। 
  • पुरे राज्य में, प्रत्येक जिले एक से ज्यादा एयर पोर्ट को उपयोगिता को सुनिश्चित करना  

You may like also:

Previous
Next Post »