आग्नेय शैल क्या है ? आग्नेय शैल के निर्माण की पद्धति एवं उनके लक्षण बताएं |

  प्रश्न 

आग्नेय शैल क्या है ? आग्नेय शैल के निर्माण की पद्धति एवं उनके लक्षण बताएं | 

उत्तर  

मैग्मा और लावा से आग्नेय शैल बनती हैं इसलिए इसे प्राथमिक शैल भी कहते हैं। आग्नेय शैल पृथ्वी की भूपर्पटी के आतंरिक भाग में या सतह पर कही भी बन सकती है।

आग्नेय शैल  का उदाहरण,

  • ग्रैनिटो, गैब्रो, पेगमाटाइट, बेसाल्ट, ज्वालामुखीय ब्रेशिया और टफ।


आग्नेय शैल  के निर्माण की तीन विधियाँ और विशेषताएँ निम्नलिखित हैं:

  • भूपर्पटी के बहुत गहराई पर, जब मैग्मा बहुत धीरे-धीरे ठंडा होता है, तो उसके परिणामस्वरूप, खनिज के कण काफी बड़े होते है ।
  • पृथ्वी की सतह पर लावा या मैग्मा पहुँचता  है तो वह बहुत तेजी से ठंडा होता है, जिसके परिणामस्वरूप खनिज कण चिकने और छोटे हो जाते हैं।
  • उथली गहराई पर, मैग्मा न तो बहुत धीमी गति से ठंडा होता है और न ही बहुत तेज गति से ठंडा होता है , परिणामस्वरूप, आग्नेय शैल के कण मध्यम आकार के होते है,  न ही बहुत बड़े और न ही बहुत छोटे होते हैं।
चुकि आग्नेय शैल प्राथमिक शैल है जो की मैग्मा से बनती है इसलिए इनमे जीवाश्म नहीं पाया जाता है | 

You may like also:
Previous
Next Post »