भूपृष्ठीय शैलो में प्रमुख प्रकार के शैलो की प्रकृति एवं उनकी उत्पत्ति की पद्द्ति का वर्णन करें |

  प्रश्न 

भूपृष्ठीय शैलो में प्रमुख प्रकार के शैलो की प्रकृति एवं उनकी उत्पत्ति की पद्द्ति का वर्णन करें | 

उत्तर 

 भूपर्पटी पृथ्वी की सबसे ऊपरी परत है जो की ठोस रूप में है और यह तीन प्रकार की चट्टानों से बना है जो की निम्न लिखित है 

  • आग्नेय शैल 
  • अवसादी शैल 
  • कायांतरित शैल 

आग्नेय शैल:

आग्नेय चट्टानों की उत्पत्ति :

आग्नेय शैल प्राथमिक शैल है और यह पिघले हुए मैग्मा के ठंडा होने से बनती है।

आग्नेय चट्टानों की प्रकृति:

  • यह बहुत कठोर होता है और आसानी से अपक्षय नहीं होता है।
  • आग्नेय चट्टानें दानेदार होती हैं और इनमें अवसादी शैलो की तरह परत नहीं होती है।
  • इनमें कोई जीवाश्म के अवशेष नहीं पाए जाते है।
  • उदाहरण के लिए, ग्रेनाइट, गैब्रो, बेसाल्ट, आदि आग्नेय शैल है ।

अवसादी शैल 

अवसादी शैल  द्वितीयक चट्टानें हैं क्योकि इसकी उत्पत्ति सीधे मैग्मा से न होकर आग्नेय, अवसादी, व कायांतरित शैलो से होती है | 

अवसादी शैल की उत्पत्ति का तरीका:

अवसादी शैलो का निर्माण शैलो  के छोटे छूटे कणो के की लिथिफिकेशन( शिलीभवन ) प्रक्रिया से होता है।

अवसादी शैल की प्रकृति:

  • यह आग्नेय चट्टानों की तरह कठोर नहीं है।
  • यह आसानी से अपक्षय हो जाता है।
  • इसकी स्तरित संरचना होती है  और इसमें पौधों और जानवरों के जीवाश्म भी  शामिल हैं।
  • उदाहरण के लिए, बलुआ पत्थर, चूना पत्थर, कोयला, पोटाश, आदि अवसादी  शैल है ।

कायांतरित शैल :

कायांतरित शैले भी द्वितीयक चट्टानें हैं क्योंकि यह आग्नेय चट्टानों और अवसादी चट्टानों से प्राप्त होती हैं।

कायांतरित का अर्थ है "रूप का परिवर्तन", कायांतरित शैल आग्नेय और अवसादी शैलो के रूप परिवर्तन से बनता है ।

कायांतरित चट्टानों की उत्पत्ति का तरीका:

पीवीटी (दबाव, आयतन और तापमान) की कार्यवाही और इसके परिवर्तन के कारण , शैलो में  पुनः क्रिस्टलीकरण होता है  , जिसमें आग्नेय और तलछटी चट्टानों की तुलना में अलग गुण आ जाते है , कायांतरित चट्टानों बनते हैं।

कायांतरित शैलो की प्रकृति:

  • पीवीटी (दबाव, आयतन और तापमान) के कारण, चट्टान का पुन: क्रिस्टलीकरण हो जाता है और खनिज या कणो एक  स्तरित या रेखाओं में व्यवस्थित हो जाते हैं; इस तरह की व्यवस्था को पत्रण या  फोलिएशन या रेखांकन कहा जाता है।
  • फोलिएशन या  रेखांकन , और बैंडिंग कायांतरित शैलो की महत्वपूर्ण विशेषताएं हैं।
  • उदाहरण के लिए, ग्रेनाइट, स्लेट, संगमरमर, आदि।
You may like also:
Previous
Next Post »