Search Post on this Blog

अरब भूगोलवेत्ताओं का भूगोल के विकास में योगदान UPSC | मानव भूगोल में संदर्श | मानव भूगोल UPSC

 प्रारंभिक अरब भूगोलवेत्ता का विचार ग्रीक भूगोलवेत्ता के विचारों से अत्यधिक प्रभावित था जैसे:

  • पृथ्वी गोलाकार सिद्धांत
  • अक्षांश-संबंधी सिद्धांत
  • पृथ्वी केंद्रीयता सिद्धांत

मध्यकाल के दौरान [ दसवीं और अठारवीं शताब्दी ] अरब भूगोलवेत्ताओं ने भूगोल में अपने नये विचारों का योगदान दिया।

भौगोलिक विकास में अरब भूगोलवेत्ता का योगदान निम्न लिखित है:


भू-आकृति विज्ञान के क्षेत्र में:

अल बिरूनी का योगदान:

  • अल बिरूनी ने शैल के गोलाकार होने का कारण बताया। इन्होने बताया कि जब चट्टानें पर्वतो से टूटकर गिरते है और जब यह नदी घाटियों से होते हुए आगे बढ़ते है तो पत्थर गोलाकार आकार ले लेता है।
  • अल बिरूनी ने जलोढ़ मिट्टी के नाम भी दिए और कहा कि यह पहाड़ से बहुत दूर पाई गई है।
  • अल बिरूनी ने वनस्पति पर जलवायु की प्रभावों की व्याख्या की थी।

अन्य अरब भूगोलवेत्ता ने बताया की पर्वत शिखर, कठोर चट्टान जो अपरदन के प्रतिरोध होते है उनसे बने होते है। 


समुद्र विज्ञान के क्षेत्र में:

  • अरब भूगोलवेत्ताओं ने ज्वार आने का मुख्य कारण चंद्रमा और सूर्य के आकर्षण शक्ति को बताया जिसके कारण समुंद्री जल ऊपर उठते है ।
  • अल मसूदी ने बताया कि समुद्र के पानी में लवणता के उपस्थिति के कारण पानी का रंग खारा होता है और महासागरों के लवणता का मुख्य श्रोत भूभाग बताया। भूभाग से नमक समुन्द्र के पानी में आते है ।


जलवायु विज्ञान के क्षेत्र में:

  • भारतीय मानसून का वर्णन अल मसूदी ने किया जो एक अरब भूगोलवेत्ता थे। 
  • अल मसूदी ने भारत की यात्रा के दौरान यहाँ के मौसमी पवन का नाम मानसून दिया जो अरब शब्द "मौसम" से बना हुआ है जिसका अर्थ है हवाओं का उलटना। 
  • अल बलख ने  दुनिया का पहला जलवायु एटलस (किताब-उल-अशकल) तैयार किया था ।
  • अल मगदिसी ने वनस्पति और जलवायु परिवर्तन के आधार पर विश्व जलवायु को 14 क्षेत्रों में विभाजित किया था ।


मानव भूगोल के क्षेत्र में:

  • अरब भूगोलवेत्ताओं ने बताया कि जलवायु और वनस्पति, दोनों ही क्षेत्र-विशिष्ट समाज विकसित होने में  योगदान देते है और उसके स्वरूपों को प्रभवित करते हैं। 
  • इब्न-खलदुन ने बताया कि ठंडे क्षेत्रों की तुलना में गर्म क्षेत्र के लोग अधिक भावुक होते हैं, और इस तरह इब्न-खलदुन ने स्थान-विशिष्ट भूगोल का जन्म दिया।
  • इब्न-खलदुन ने यह भी बताया कि उत्तरी गोलार्ध दक्षिणी गोलार्ध की तुलना में अधिक घनी आबादी वाला क्षेत्र है। और भूमध्य रेखा के पास वाले क्षेत्र में विरल आबादी पायी जाती है और उपजाऊ भूमि वाले क्षेत्र में बहुत घनी आबादी होती है।
  • इब्न बतूता ने रेगिस्तान वाले क्षेत्र मानव अधिवास का उल्लेख किया है। इन्होने बताया कि रेगिस्तान में घर बनाने का अलग तरीका होता है और घर बनाने में जो निर्माण सामग्री लगती थी उसका भी उल्लेख मिलता है ।

You may like also:

Previous
Next Post »

1 comments:

Click here for comments
11 February 2022 at 00:31 ×

Sir aap itna mehnat kar rahe hain I don't have the meaningful words to explain your efforts for us and how you conclude statement and the ways of your presentation is outstanding...

Congrats bro Geographical thought you got PERTAMAX...! hehehehe...
Reply
avatar